zeher kaam bhaari Rap lyrics

 

  • Singer : Kaam Bhaari
  • Lyricis: tKaam Bhaari
  • Music : Shikhar Manchand
  • Director : Shanker Raman
  • Music Label :IncInk Records LLP

Lyrics

Aur main ghutne par, dua main khushi bheju
Tujhse tera dukh lekar
Ye kashmakash ki
Ye kashmakash ki rush mein jeene ke main dhoondu nuske
Na bas mein mere ab main bandagi ke dhoondu chaske
Sama toh laapata hai meri isme kya khata hai?
Kamaake main jamaake deta dil se ye wafa hai
Dhamaake kar du tere ghar pe beta mard hu main
Par vata, teri maa ke pag pe sar du main..

Vishay hai ye vish ka, ab zinda kal mar ja,
Sar chadh jaaega jab tab ghar ja,
Tu lad ja ya mar ja
Dasne wale lakh naag kuch toh apne saath saath hain
Raat raat mein jo kaatein tujhko

Vishay hai ye vish ka, ab zinda kal mar ja,
Sar chadh jaaega jab tab ghar ja,
Tu lad ja ya mar ja
Dasne wale lakh naag kuch toh apne saath saath hain
Raat raat mein jo kaatein tujhko

Tere mann ke saanp hai
Tu paapon mai, kisi na kisi ke shraapon mein
Bahut taaqat hai
Par apne karam kabhi galat nahi
Dimaag thhoda satka hai
Dharam kabhi galat nahi, insaan kidhar sachha hai?
Jalan

Bhai ko bhai se Sai ko (psycho) hum hai maante
Phir kai ko hum na jaante? Kyun?
Tera maalik mera maalik, ek hai..
Tu la kaalik khud ke chehre pe poch
de.. Soch ke, zeher si ye baatein
Ye laatein, ye kha ke , maza le ye kick hai
Ye woh jo bad trip hai saza degi
Kuch meri raza leke baithe hain mehfil mein
Dum le aur bak de jo hai dil mein keh bhi de

Vishay hai ye vish ka, ab zinda kal mar jaaa,
Sar chadh jaaega jab tab ghar ja,
Tu lad ja ya mar jaa..
Dasne wale lakh naag kuch toh apne saath saath hain
Raat raat mein jo kaatein tujhko

101
Main filme banane mein maahir sa tha
Aur kill mein villain kar ke zaahir sa tha
Logon mein
Idhar kua udhar khaai hai
Daste ye shabd kaise phaste dekh bhai hai

Tu mujhko kill kar ya ban mera dilbar
Ae sapne mere, mere apno ka tu bill bhar
Samandar mein naav meri chal padi
Bhookhe ko bhookh lagi
Suraj aaya dhoop lagi
Kuch toh kar
Sookhe ko paani ki pyaas lagi
Saans dabi
Meri bole uth ke chal,
Tootke bal chaknaachoor ….

Sitaare banna chaahein sab hataash hain,
Niraash hain..
Koi rab se bole kuch bhi na toh mere paas hai.
Koi jag se bole kab se kab tak humse ragbat
Koi daakh ras maange phir bhi milta sharbat..
Yahaan pe aahatein hain raahat hai na mili rooh ko..
Ye dil mein pyaar hai par chaahat hai na mili tumko..
Tu mera dil le mehfil le ye feel le..
Ye nagri meri dagri meri tu chill le
Raat mein jo kaatein tujhko

Vishay hai ye vish ka, ab zinda kal mar jaaa,
Sar chadh jaaega jab tab ghar ja,
Tu lad ja ya mar jaa..
Dasne wale lakh naag kuch toh apne saath saath hai..
Raat raat mein jo kaatein tujhko …

Main shunya tha,
Kal ko aaj duniya ka
Paapi kaam na kiye kabhi, kadaapi
Chhaati chaudi karke ladte the
Hum toh karte the jo karna tha
Karma ka, khaaya apne phal ka hi nivaala aur vataya sabko
Chalta banaya,
Jo the khote log chhote soch ke
F*** de hum unhiko jo bhi sachhe lagte soch ke
Rakhte hum unhi ko jinko rakhna chaahein fauj mein
Rakt kum hai, shabd bum hai
Phoote toh kshay hai
Vijay hai hamari hamesha
Vijay hai hamari hamesha
Vijay hai hamari hamesha

Peace!

और मैं घुटने पर, दुआ में ख़ुशी भेजूं
तुझसे तेरा दुख लेकर
ये कश्मकश की..
ये कश्मकश की rush में जीने के मैं ढूंढू नुस्खे
ना बस में मेरे अब मैं बंदगी के ढूंढू चस्के
समां तो लापता है! मेरी इसमें क्या खता है?
कमा के मैं जमा के देता दिल से, ये वफ़ा है!
धमाके कर दूं तेरे घर पे बेटा मर्द हूं मैं!
पर वटा, तेरी मां के पग पे सर दूं मैं!

[Hook: Kaam Bhaari]
विषय है ये विष का, अब ज़िंदा कल मर जा
सर चढ़ जाएगा जब तब घर जा
तू लड़ जा या मर जा
डसने वाले लाख नाग कुछ तो अपने साथ साथ हैं
रात रात में जो काटें तुझको..

[Verse 1: Kaam Bhaari]
विषय है ये विष का, अब ज़िंदा कल मर जा
सर चढ़ जाएगा जब तब घर जा
तू लड़ जा या मर जा!
डसने वाले लाख नाग कुछ तो अपने साथ साथ हैं
रात रात में जो काटें तुझको, तेरे मन के सांप हैं
तू पापों में, किसी न किसी के श्रापों में
बहोत ताकत है!
पर अपने कर्म कभी गलत नहीं, दिमाग थोड़ा सटका है!
धर्म कभी गलत नहीं, इंसान किधर सच्चा है?
जलन!
भाई को भाई से सांई को (psycho) हम हैं मानते
फिर काय को हम ना जानते? क्यूं?
तेरा मालिक मेरा मालिक, एक है!
तू ला कालिख ख़ुद के चेहरे पे पोंछ दे..
सोच के, ज़हर सी ये बातें
ये लातें, ये खा के, मज़ा ले ये किक है
ये वो जो bad trip है! सज़ा देगी!
कुछ मेरी रज़ा लेके बैठे हैं महफ़िल में
दम ले और बक दे जो है दिल में कह भी दे!

[Hook: Kaam Bhaari]
विषय है ये विष का, अब ज़िंदा कल मर जा
सर चढ़ जाएगा जब तब घर जा
तू लड़ जा या मर जा!
डसने वाले लाख नाग कुछ तो अपने साथ साथ हैं!
रात रात में जो काटें तुझको..

[Verse 2: Kaam Bhaari]

मैं फ़िल्में बनाने में माहिर सा था!
और kill में villain कर के ज़ाहिर सा था!
लोगों में, इधर कुंआ उछर खाई है
डसते से शब्द, कैसे फ़सते देख भाई हैं!
तू मुझको kill कर या बन मेरा दिलबर
ऐ सपने मेरे, मेरे अपनों का तू bill भर
समंदर में नाव मेरी चल पड़ी
भूखे को भूख लगी, सूरज आया धूप लगी
कुछ तो कर!
सूखे को पानी की प्यास लगी, सांस दबी
मेरी बोले उठ के चल, टूट के बल चकनाचूर!
सितारे बनना चाहें सब हताश हैं, निराश हैं!
कोई रब से बोले, कुछ भी ना तो मेरे पास है!
कोई जग से बोले कब से कब तक हम से रगबत?
कोई दाख रस मांगे फ़िर भी मिलता शरबत!
यहां पे आहटें हैं, राहत है ना मिली रूह को
ये दिल में प्यार है पर, चाहत है ना मिली तुमको!
तू मेरा दिल ले, महफ़िल ले, ये feel ले!
ये नगरी मेरी, डगरी मेरी, तू chill ले!

(रात रात में जो काटें तुझको)

[Hook: Kaam Bhaari]
विषय है ये विष का, अब ज़िंदा कल मर जा
सर चढ़ जाएगा जब तब घर जा
तू लड़ जा या मर जा!
डसने वाले लाख नाग कुछ तो अपने साथ साथ हैं!
रात रात में जो काटें तुझको..

[Verse 3: Kaam Bhaari]
मैं शून्य था!
कल को आज दुनिया का!
पापी काम ना किए कभी, कदापि
छाती चौड़ी कर के लड़ते थे
हम तो करते थे जो करना था!
कर्म का, खाया अपने फल का ही निवाला
और वटाया सबको!
चलता बनाया!
जो थे खोटे लोग छोटे सोच के
सब दे हम उन्हीं को जो भी सच्चे लगते सोच के!
रखते हैं हम उन्हीं को जिनको चाहें फौज में
रक्त कम हैं, शब्द बम हैं, फ़ूटे तो क्षय है!

[Outro: Kaam Bhaari]
विजय है
विजय है हमारी हमेशा!
विजय है हमारी हमेशा!
विजय है हमारी हमेशा!
Peace!

0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

©2021 AdtagMacrosMedia

CONTACT US

We're not around right now. But you can send us an email and we'll get back to you, asap.

Sending
mersin yeni escort -
Cratosslot Giriş
- Perabet giriş

Log in with your credentials

Forgot your details?