Le Ja Kahin Door Khuda Rap Lyrics (1)

Le Ja Kahin Door Khuda Rap Lyrics from the Movie RCR, sung by RCR. The song is composed by RCR and the lyrics are penned by RCR.

Song: Leja Kahi Door Khuda
Singer: RcR
Lyrics: RCR

Lyrics

Pata hai
Is duniya se pare
Ek aur duniya hai
Jaha sab kuch thehera hua hai
Bas waha jaane ko dil karta hai

Aayi andar se aawaz kahi aur hai tera ghar
Sach jhooth se pare jaha maut ka na darr
Noor ki chaddar mein so rahi roohein
Jahan seene se laga ke maula choomta hai sar

Ab wo bhi pareshan dekh duniya ke halaat
Mazhab baanta rab baanta baanti jaat paat
Ro raha dekh behti khoon ki nadiyan
Ke kaise insaan, insaan ko raha kaat
Kya maar ke kisi ko aaj tak rab dikha hai
Kya wo bhi teri tarah chand paison pe bika hai
The god is love, love is god Christ ne kaha tha
Jin prem kiyo tin hi prabh paayo baani mein likha tha
Phir kyun dharmo ko leke nafarat ke beej bo rahe hai
Hindu musalman kattarata ki maiyat pe so rahe hai
Guruon peeron ne hume ladna nahi sikhaya
Phir kyun sabse jyada dharmon pe hi katl-e-aam ho rahe hai

Band karo nautanki khud ko dharmik batane ki
Saadhuon ka chola aarat jismon ko khane ki
Pehna sir se paon tak jhooth ka libaas
Aur baatein karta hai tu sachche rab ko paane ki

Le jaa kahin door khuda
Karde mujhko mujhse juda
Tadpoon tadpe meri rooh
Toot chuka nahi milta tu

Le jaa kahin door khuda
Karde mujhko mujhse juda
Tadpoon tadpe meri rooh
Toot chuka nahi milta tu

Qayamat ke din sabka lekha dekha jaayega
Tere kaale karmo ka phal
Tujhe nark mein phenka jaayega
Zubaan teri kheech lenge chamdi udhedi jaayengi
Aag ki lapto me tera jism seka jaayega
Keh doon baatein hai dil mein rehti behti meri
Do pyaasi ye aankhein hai kyun ?
Cheekh cheekh thaka haara main
Kaano mein renge na inke zara si joon
Ru-ba-ru hona main chaahun
Tere darr pe khona main chaahun
Na lage dil qafir hai duniya
Maut ki sej mein sona main chaahun

Ye baat
Un bachchon ki hai..
Jinhone har ek terrorist attack mein
Apne maa baap ko kho diya

Mari hui maa ka dhoodh peete peete so chuke hai
Khoon nikle aankhon se iss hadd tak ro chuke hai
Kya reh gaya un bachchon ka bachpan
Abhi chalna bhi na seekha aur anaath ho chuke hai
Jaan le li jaati hai yaha jisne pyaar kiya
Padha itihaas toh maine aitbaar kiya
Heer ranjha sassi pannu koi na bacha
Insaan toh kya logon ne isalah ko bhi maar diya

Le jaa kahin door khuda
Karde mujhko mujhse juda
Tadpoon tadpe meri rooh
Toot chuka nahi milta tu

Le jaa kahin door khuda
Karde mujhko mujhse juda
Tadpoon tadpe meri rooh
Toot chuka nahi milta tu..

पता है
इस दुनिया से परे
एक और दुनिया है
जहाँ सब कुछ ठहरा हुआ है
बस वह जाने को दिल करता है

आयी अंदर से आवाज़ कही और है तेरा घर
सच झूठ से परे जहां मौत का न डर
नूर की चद्दर में सो रही रूहें
जहाँ सीने से लगा के मौला चूमता है सर

अब वो भी परेशां देख दुनिया के हालात
मज़हब बाँटा राब बाँटा बाँटी जात पात
रो रहा देख बहती खून की नदियां
के कैसे इंसान, इंसान को रहा काट
क्या मार के किसी को आज तक रब दिखा है
क्या वो भी तेरी तरह चाँद पैसों पे बिका है
थे गॉड इस लव, लव इस गॉड क्राइस्ट ने कहा था
जिन प्रेम कियो तिन ही प्रभ पायो बानी में लिखा था
फिर क्यों धर्मो को लेके नफ़रत के बीज बो रहे है
हिन्दू मुस्लमान कट्टरता की मैयत पे सो रहे है
गुरूओं पीरों ने हमे लड़ना नहीं सिखाया
फिर क्यों सबसे ज्यादा धर्मों पे ही क़त्ल-इ-आम हो रहे है

बंद करो नौटंकी खुद को धार्मिक बताने की
साधुओं का चोला ारत जिस्मों को खाने की
पेहना सर से पाव तक झूठ का लिबास
और बातें करता है तू सच्चे रब को पाने की

ले जा कहीं दूर खुदा
करदे मुझको मुझसे जुदा
तड़पूँ तड़पे मेरी रूह
टूट चूका नहीं मिलता तो

ले जा कहीं दूर खुदा
करदे मुझको मुझसे जुदा
तड़पूँ तड़पे मेरी रूह
टूट चूका नहीं मिलता तो

क़यामत के दिन सबका लेखा देखा जाएगा
तेरे काले कर्मो का फल
तुझे नारक में फेंका जाएगा
जुबां तेरी खींच लेंगे चमड़ी उधेड़ी जाएंगी
आग की लपटों में तेरा जिस्म सेका जाएगा
कह दूँ बातें है दिल में रेहटी बहती मेरी
दो प्यासी ये आँखें है क्यों ?
चीख चीख थका हारा मैं
कानो में रेंगे न इनके ज़रा सी जून
रु-बा-रू होना मैं चाहूं
तेरे डर पे खोना मैं चाहूं
न लगे दिल क़ाफ़िर है दुनिया
मौत की सेज में सोना मैं चाहूं

ये बात
उन बच्चों की है..
जिन्होंने हर एक टेररिस्ट अटैक में
अपने माँ बाप को खो दिया

मरी हुई माँ का दूध पीते पीते सो चुके है
खून निकले आँखों से इस हद्द तक रो चुके है
क्या रह गया उन बच्चों का बचपन
अभी चलना भी न सीखा और अनाथ हो चुके है
जान ले ली जाती है यहाँ जिसने प्यार किया
पढ़ा इतिहास तोह मैंने ऐतबार किया
हीर राँझा सस्सी पन्नू कोई न बचा
इंसान तोह क्या लोगों ने इसलाह को भी मार दिया

ले जा कहीं दूर खुदा
करदे मुझको मुझसे जुदा
तड़पूँ तड़पे मेरी रूह
टूट चूका नहीं मिलता तो

ले जा कहीं दूर खुदा
करदे मुझको मुझसे जुदा
तड़पूँ तड़पे मेरी रूह
टूट चूका नहीं मिलता तो

0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

©[current-year] AdtagMacrosMedia